Govt. Employees - कार्रवाई के लिए केचमेंट एरिया शिक्षकों के बाजाय अधिकारियों का होना चाहिए - MP 7 NEWS

Breaking

Title of the document Welcome to MP 7 NEWS (Web & Youtube Channel) अपने क्षेत्र के समाचार, वीडियो खबर भेजें व फ्री में देखिये/पढ़िए व विज्ञापन के लिए - 7869349141 वाट्सअप नम्बर पर सम्पर्क करे। Nature

Post Top Ad

Nature

Post Top Ad

Nature

मंगलवार, 5 जनवरी 2021

Govt. Employees - कार्रवाई के लिए केचमेंट एरिया शिक्षकों के बाजाय अधिकारियों का होना चाहिए

भोपाल - प्रदेश में 10वीं, 12वीं में 40 फीसदी से कम परिणाम पर संबंधित विद्यालयों के साथ केचमेंट एरिया में शामिल मावि के लगभग आठ हजार शिक्षकों की परीक्षा संपन्न हुई। मप्र तृतीय वर्ग शास कर्म संघ के प्रांताध्यक्ष श्री प्रमोद तिवारी एवं प्रांतीय उपाध्यक्ष कन्हैयालाल लक्षकार, सुधीर नेमा, प्रांतीय महामंत्री हरिश बोयत, प्रांतीय सचिव जगमोहन गुप्ता, यशवंत जोशी, विनोद राठौर एवं राकेश पाटीदार ने संयुक्त प्रेस नोट में बताया कि उक्त परीक्षा का उपयोग शिक्षा की गुणवत्ता एवं शिक्षकों की बेहतरी के लिए होना चाहिए। परीक्षा में असफल होने वाले शिक्षकों के  पुख्ता उच्च स्तरीय प्रशिक्षण की व्यवस्था कर वांछित परिणाम प्राप्त करना चाहिए। प्रशिक्षित शिक्षकों का चयन शासन की निर्धारित कठोर प्रतियोगी प्रतियोगी परीक्षाओं में लाखों प्रतियोगियों से आगे निकलकर चयनित हुए है। मप्र तृतीय वर्ग शास कर्म संघ मांग करता है कि शिक्षकों की परीक्षा का उपयोग शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के साथ शिक्षकों की बेहतरी के लिए होना चाहिए। परीक्षा परिणाम के आधार पर शिक्षकों को जलिल, अपमानित व पेट पर लात मारने (बर्खास्तगी) के लिए किसी भी हालत में नहीं होना चाहिए। गत वर्ष इसी आधार पर प्रदेश के 16 शिक्षकों को बर्खास्त किया गया था। इनकी बर्खास्तगी इनके चयन प्रक्रिया पर सवाल खड़ा करता है। तात्कालिक नियोक्ता व आला अधिकारी, प्रशिक्षण संस्थान के शिक्षक, इनके सेवाकाल में निरीक्षण करने वाले समस्त निरीक्षणकर्ता अधिकारियों के साथ जवाबदार भ्रष्ट आला अधिकारियों को प्रक्रिया के केचमेंट एरिया में शामिल कर कठोर दंडात्मक कार्रवाई के साथ सेवा में है तो इनके वेतन से व सेवानिवृत हो गये हो तो इनकी पेंशन से बर्खास्त शिक्षकों के वेतन-भत्तों की आर्थिक भरपाई प्रावधान होना चाहिए। कर्मचारी नेताओं ने आरोप लगाया है कि यह इकलौती संपन्न परीक्षा है, जिसके प्रश्न पत्र संबंधित परीक्षार्थी शिक्षकों को नहीं दिये गये। यह विभागीय स्वेच्छाचारिता, आतंक, तानाशाही व शिक्षकों को जलिल, अपमानित करने का कुत्सित प्रयास है। ऐसे निति नियंताओं पर सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई का प्रावधान होना चाहिए। 


प्रमोद तिवारी-प्रांताध्यक्ष 

8319436125

कन्हैयालाल लक्षकार-प्रांतीय उपाध्यक्ष 

9340839574

सुधीर नेमा-प्रांतीय उपाध्यक्ष 

9425022222

हरीश बोयत-प्रांतीय महामंत्री 

9826055622

जगमोहन गुप्ता-प्रांतीय सचिव 

9826735111

यशवंत जोशी-प्रांतीय सचिव 

9406607664

विनोद रोठौर-प्रांतीय सचिव 

9993346737

राकेश पाटीदार-प्रांतीय सचिव

9009337406

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Top Ad

Nature